Languid Shadows

Translation of a ghazal by Adil Mansuri.

Languid shadows have sprawled across the city
Where else can they escape, entrapped in thoughts?

From east, my path takes me towards west
Her journey is from south to north.

Whether it’s distasteful narrative, or harsh news
She’ll understand if explained using rosy metaphors.

The parents sit quietly and don’t say a thing,
The children are spoilt with too much care.

Look at the colors reflect on the floor of the room,
Look how the glass shield parries the attack of rays.

There is no signs of tears in the eyes.
Now with her handkerchief, clean the shoes.

Her downcast face and distressed curls.
Now only God can save her enemies from coming ruin.

Again the waters reflect the shadows of silver bells,
Again the night sparkles on the silver plate.

Notes: Day 30 of NaPoWriMo 2016.  Today’s prompt was to try translating a poem from another language.  I picked an Urdu poem by Adil Mansuri, a fellow Gujarati, who also wrote in Gujarati.  I wonder if he wrote in English as well – as I do in three languages.  This was third year in last four that I have attempted 30 poems in 30 days.  First time, I got to 30 in 30 days.  Feels good!

Here’s the original poem in Devanagari:

फैले हुए हैं शहर में साए निढाल से
जाएँ कहाँ निकल के ख़यालों के जाल से

मशरिक़ से मेरा रास्ता मग़रिब की सम्त था
उस का सफ़र जुनूब की जानिब शुमाल से

कैसा भी तल्ख़ ज़िक्र हो कैसी भी तुर्श बात
उन की समझ में आएगी गुल की मिसाल से

चुप-चाप बैठे रहते हैं कुछ बोलते नहीं
बच्चे बिगड़ गए हैं बहुत देख-भाल से

रंगों को बहते देखिए कमरे के फ़र्श पर
किरनों के वार रोकिए शीशे की ढाल से

आँखों में आँसुओ का कहीं नाम तक नहीं
अब जूते साफ़ कीजिए उन के रुमाल से

चेहरा बुझा बुझा सा परेशान ज़ुल्फ़ ज़ुल्फ़
अल्लाह दुश्मनों को बचाए वबाल से

फिर पानियों में नूक्रई साए उतर गए
फिर रात जगमगा उठी चांदी के थाल से

 

 

Advertisements

Sun Sets (सूरज डूबा)

सूरज डूबा, संध्या छाई,

सोचा था दिन में होगी  कुछ बात नई

लो धीरे-धीरे फ़ैले रजनी –

सोते-सोते सोचा….

 

(लो रात गई)

हो गई प्रात:

चिडियाँ चहकी,

कलियाँ महकी,

लो हुई कुछ बात नई

 

Translation:

Sun sets, twilight falls,

Thought there might be something new in the day

Night falls slowly

Sleeping, thinking….

(See the night has passed)

Its dawn and

The sparrow chirp

The buds unfurl

See there is something new.

 

Notes: This is a Found poem using Harivanshrai Bachhan’s original.  Found poems can take many forms, excerpting, remixing, erasure, cento and cut-up.  For this one, I have primarily  use excerpts and did a bit of remixing.  A constraints was to use only letters and words from the original.

Here’s the original:

सूरज ढल कर पच्छिम पंहुचा,

डूबा, संध्या आई, छाई,

सौ संध्या सी वह संध्या थी,

क्यों उठते-उठते सोचा था

दिन में होगी कुछ बात नई

लो दिन बीता, लो रात गई

 

धीमे-धीमे तारे निकले,

धीरे-धीरे नभ में फ़ैले,

सौ रजनी सी वह रजनी थी,

क्यों संध्या को यह सोचा था,

निशि में होगी कुछ बात नई,

लो दिन बीता, लो रात गई

 

चिडियाँ चहकी, कलियाँ महकी,

पूरब से फ़िर सूरज निकला,

जैसे होती थी, सुबह हुई,

क्यों सोते-सोते सोचा था,

होगी प्रात: कुछ बात नई,

लो दिन बीता, लो रात गई