पुराने मुहावरें की नयी कहाँनी (New Story of Old Proverbs)

Redwoods Forest, California.

Redwoods Forest, California.

कभी दिन में दो लंबी सांस लेने का वक़्त मिलता हैं
तो लेते, लेते, सोच भी लेते हैं:
की पहिये पे चूहा लगातार क्यों भागता, दौड़ता रहता हैं?

शायद वो पीछे आफत की खाई से बच के निकला हो
मगर आगे किसी और की बनाये कूवैं में जा पड़ा हो?
फिर ऐसा सोचना भी कुछ आसान नहीं होता हैं,

क्यों की ऐसा भी हो सकता हैं:
के सौ लोगों की सेहत सही सलामत हो
फिर भी उनके बीच एक ही अनार हो ।

सुना था एक पंडित कहा करते थे –
“सेहत अच्छी रखनी हो तो मुसल्लों से डरते रहना”
पर जीनो ने अपने सर ओखली में रखे थे, उन्हों ने
उस पंडित पर हंस के, गधे पे बिठा के, शहर से भगा दिया ।

अगर श्रीमान और श्रीमती जोंस के साथ साथ चलना हो
तो ज़रूर सावन में ही अंधा होने की आवश्यकता होती हैं,
के सिवा अपने आँगन में, चारो और हरियाली ही हरियाली दिखाई दे ।

यथा नतीजा ये भी हो सकता हैं की, बिजूका काम पे तब लगे
जब चिड़िया सारा खेत चुगत गयी हो
या फिर अंधों की दुनिया में सब के पास आइना हो ।

फिर ये भी तो हो सकता हैं की
दीपक की आखिरी लौ की रोशनी में
लक्ष्मी आती दिखाई दे और मेले मुंह पर ही तिलक करवा लें ।
यथा कबीर कहत और साधो सुनत भी ले:
“आवागमन में रिया भटकी”
और ये भी हो सकता हैं की –
शाम का भुला, सुबह घर लौट आये ।

Proverbs Used in the Poem:

आगे कुआँ पीछे खाई
एक अनार सौ बीमार
अब ओखली में सर दिया तो मूसलों से कया डरना
सावन के अंधे को सब हरा ही हरा नज़र आता हैं
अब पछताए होत क्या जब चिड़िया चुग गई खेत
अंधों की दुनिया में आईना बेचना
जब लक्ष्मी तिलक करती हो, तब मुंह धोने नहीं जाना चाहिए
सुबह का भूला शाम को घर आये तो उसे भुला नहीं कहते

English Transliteration:

Kabhi din mein do lambi saans lene ne ka waqt milta hain,
To lete , lete, soch bhi lete hain:
Ki pahiye pe chuha lagataar kyun bhagta, dhodta rahta hain

Shayad wo picche aafat ki khai se bch ke nikla ho
magar aage kisi aur ki banaaye coovain mein ja pada ho
Phir bhi aisa sochna bhi itna kuch aasan nahi hain

Kyun ki aisa bhi ho sakta hain:
Ke sau logon ki sehat sahi salaamat ho
Phir bhi unke bich ek hi anaar ho.

Suna tha ek pundit kaha karte the –
“sehat acchi rakhni ho to musallon se darte rhena”
Per jino ne apne sar okhli mein rakhe the, unho ne us pundit per haas ke, gadhe pe bitha ke, shehr se bhagaa diya.

Agar Sriman aur Srimati Jones ke saath saath chalna ho
To zaroor saavan mein hi andhaa hone ki avasakyta hoti hain,
ke sivaa apne angan mein, charo aur hariyali hi hariyali dikhai de.

Yatha natijaa ye bhi ho sakta hain ki, bijuukha kaam pe tab lage
jab chidiya saraa khet chugat gayi ho
Ya phir andhoon ki duniya mein sab ke paas aaina ho

Phir yeh bhi to ho sakta hain ki
dipak ki aakhiri lau ke roshni mein
lakshmi aati dikhai de aur mele munh per hi tilak karva le.
Yaatha kabir kahat aur sadho suunat bhi levet:
“aavaagaman mein riya bhatki”.
Aur ye bhi to ho sakta hain ki –
shaam ka bhula, subah ghar laut aaye.

Notes:
This poem was inspired by a Billy Collins poem – Adage.

Advertisements